गुरुवार, 25 अगस्त 2011

विचार-बिगुल: अन्ना की हठ और उसके दुष्परिणाम लेखक डॉ. चन्द्रभान

विचार-बिगुल: अन्ना की हठ और उसके दुष्परिणाम लेखक डॉ. चन्द्रभान: अन्ना की हठ और उसके दुष्परिणाम
लेखक डॉ. चन्द्रभान

अन्ना का जनलोकपाल बिल, जो पाँच व्यक्तियों ने तैयार किया है, 30 अगस्त तक संसद पास हो...

1 टिप्पणी:

  1. क्या परम आदरणीय चन्द्रभान जी अन्ना की तरह २-४ दिन देश के लिए अन्न त्याग कर सकते हैं. किसी सार्थक मुहिम को इस प्रकार निरर्थक सिद्ध करने का प्रयत्न क्यों? संसद और संविधान की दुहाई देकर जनता की संप्रभुता पर प्रश्नचिन्ह लगाना कितना औचित्यपूर्ण है. यह केवल दो-चार हजार की भीड़ का आंकड़ा चंद्रभान जी को कहाँ से मिला?

    उत्तर देंहटाएं