मंगलवार, 8 जून 2010

माटी के दीप-काव्य का उजाला (काव्य संग्रह)

माटी के दीप-काव्य का उजाला (काव्य संग्रह)

समीक्षकः डा. महाराज सिंह परिहार

हिंदी साहित्य के इतिहास में कविता ने ऐतिहासिक भूमिका का निर्वाह किया है। इसके माध्यम से ही हिंदी जन-जन तक पहुंची। गेयता और ध्वन्यात्मकता के कारण इसे लोगों का आत्मसात करने में परेशानी नहीं हुई। अगर तुलसी का मानस गद्य में होता, सूर का सृजन कविता के इतर होता तो निश्चित रूप से वह इतना लोकप्रिय और चिरजीवी नहीं होता। यही कारण है कि हिंदी लेखक की अपेक्षा कवि जन-जन में अधिक लोकप्रिय होता है। अतः हिंदी में काव्य-साधकों ने इसे निरंतर निखारा। नये नये बिम्ब और उपमान दिए। नया कथ्य और आयाम दिया। समीक्ष्य पुस्तक माटी के दीप ने हिंदी काव्य-धारा को नया अंदाज दिया है। कवि न तो यथास्थितिवादी है और न ही वह प्रगतिशील होने का दंभ है। वह रचनाधर्मिता के अनन्य साधक हैं जिनके लिए कविता मानवीय संवेदनाओं को जन-जन तक पहुंचाने का सशक्त माध्यम है। इस पुस्तक में 59 रचनाएं समाहित हैं। विनायक वंदना से स्पष्ट होता है कि कवि आस्था और श्रद्धा से अभिभूत है। उनकी कुछ कविताएं परंपरावादी है तो कुछ में तीखे तेवर भी दृष्टिगोचर होता है। अध्यात्म भी उनकी कविताओं में यदा-कदा झलकता है। भाषा सरल व आम बोलचाल की है। आचंलिकता के पुट से यह और संपुष्ट हुई है। कवि रचनाकारों की प्रकृति को इस प्रकार उभारता है-
जब अंधकार को चीर सूर्य से धूप निकलने लगती है।
कुछ पाषाणों पर जीम हुई जब बर्फ पिघलने लगती है।।
जब धीरे-धीरे आंखों से आंसू बनकर बहता अभा।
सदियों से सूखे पत्तों में जब आग सुलगने लगती है।।
तब इंकलाब की चिनगारी धू-धू कर जलने लगती है।
तब कलमकार की कलम वहां अंगार उगलने लगती है।।
इस पुस्तक में कुछ लोकगीत भी आंचलिकता को अत्यधिक प्रभावी बनाते है। जनजीवन का सजीव चित्रण कवि के काव्य चितेरे होने का प्रमाण है। लेकिन अफसोस इस बात का है कि अब कविता सिकुड़ती जा रही है। उसका प्रभाव कम हो रहा है। हां यह ठीक है कि कविता सुनी जा रही है और पढ़ी जा रही है। परंतु बदलते परिवेश में कविता जन-जन के मन को झंकृत कर पा रही है और न ही शोषक के खिलाफ एक धारदार तलवार बन पा रही है। कविता गोष्ठियों, और कमरों तक सीमित रह गई है। जरूरत है कविता को गली-गांव का बनाने की। नुक्कड़ और चौराहों का बनाने की। शोषण के खिलाफ हथियार बनाने की। सड़ी-गली व्यवस्था के खिलाफ बिगुंल बजाने की। हर बेबस और निर्दोष के आंसू को अंगार बनाने की। ऐसा होना चाहिए। परंतु आज ऐसा नहीं हो रहा है। इसके कारणों की भी रचनाकारों को जांच-पड़ताल करनी चाहिए। केवल कविता लिखना ही सब कुछ नहीं अपितु कविता को फलीभूत करना भी लक्ष्य होना चाहिए।

2 टिप्‍पणियां: