सोमवार, 19 जुलाई 2010

पगला गया है आगरा



लगता है कि आगरा पगला गया हैहो सकता है कि यह पागलखाने का असर होपरन्तु यह नहीं हो सकता ? फिरयह क्या हैसमझ के बाहर हैइस समय आगरा में जोर शोर से एक ही कार्यक्रम चल रहा हैकलर्स चैनल के चकधूम धूम और सोनी चैनल के इंडियन आइडियल में जीतने वालों को धडाधड एस ऍम एस भेजने काअखवारों मेंइस बावत विज्ञापन छापे जा रहें हैंयहाँ होने वाले हर कार्यक्रम में मेसेज भेजने का अनुरोध किया जा रहा हैआगरा के कुछ छपास प्रेमी और प्रतियोगियों की जाति वाले इस मुहिम में विशेष रूप से लगे हुए हैआश्चर्य तो इसबात का है कि इस मुहिम में आगरा के प्रशासनिक अधिकारी भी शामिल हो गए हैंयह मुहिम चैनल और मोबाईलकंपनी को मालामाल करने के लिए चलाई जा रही हैआगरा की साहित्य और संस्कृति व् कला में विशिष्ट पहचानरही हैइस तरह के उछल कूद वाले नाच की प्रतियोगिता के लिए हम क्यों पगला रहे हैंअगर कोई जीत भी गयातो क्या होगाअभी विगत माह आगरा के ही साहित्यकार डाक्टर लाल बहादुर सिंह चौहान को शिक्षा और साहित्यमें पद्मश्री की उपाधि से अलंकृत भारत की राष्ट्रपति महामहिम प्रतिभा पाटिल ने कियाशायद ही यहाँ के लोगों नेउनका जोरदार सम्मान किया होअफ़सोस इस बात का है कि चैनल्स के माल मारो अभियान में हमारे शहर केकथित समाजसेवी, राजनेता और प्रबुध्य भी लोग शामिल हो रहे हैइन लोगों का लक्ष्य लाखों एस एम एस करानेका हैयह भी प्रचार किया जा रहा है कि एक सिम से ९० मेसेज भेजे जा सकते हैंइस तरह चैनल्स और मोबाइलकंपनियों को करोड़ों का फायदा होगा और हम बेकार में ही उनके झांसे में रहे हैंलोगों को याद होगा कि पहले स्टार प्लस चैनल पर कौन बनेगा करोडपति शो आया था जिसमे चैनल और फ़ोन कंपनियों ने दसियों करोड़कमाएआखिर हम कब तक बाज़ार के शिकार बनते रहेंगे.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें